<<

परिचय

हमारे वितरक

प्रमुख आकर्षण

रिक्त-पद

रोज़गार संपर्क

हमसे पूछिये

परिणाम

सवाल-जवाब

अभिलेख

>>

 

 

खेल चर्चा

पेस और हिंगिस का कॅरियर ग्रैंडस्लैम

भारतीय टेनिस स्टार लिएंडर पेस और स्विट्जरलैंड की उनकी जोड़ीदार मार्टिना हिंगिस ने 3 जून को पेरिस में फ्रेंच ओपन का मिश्रित युगल खिताब जीतकर कॅरियर स्लैम पूरा किया। फाइनल में दो भारतीय पेस और सानिया मिर्जा आमने-सामने थे। पेस और हिंगिस ने हालांकि सानिया और क्रोएशिया के उनके जोड़ीदार इवान डोडिग की दूसरी वरीयता प्राप्त जोड़ी से पहला सेट गंवाने के बाद शानदार वापसी करके 46, 64, 108 से जीत दर्ज की।

पेस और हिंगिस ने पिछले साल विंबलडन और यूएस ओपन के अलावा इस साल के शुरू में ऑस्ट्रेलियाई ओपन का खिताब भी जीता था और इस तरह से वे कॅरियर स्लैम पूरा करने में सफल रहे। पेस ने अपने कॅरियर में पहली बार फ्रेंच ओपन का मिश्रित युगल खिताब जीता। यह उनका मिश्रित युगल ग्रैंडस्लैम में ओवरआल दसवां खिताब है। वह अब कुल 18 ग्रैंडस्लैम खिताब जीत चुके हैं जिनमें आठ पुरुष युगल के खिताब शामिल हैं।

Top 

11वीं बार चैंपियंस लीग खिताब

स्पेन के फुटबॉल क्लब रियाल मैड्रिड ने एकबार फिर चैंपियंस लीग में अपनी बादशाहत करते हुए रिकॉर्ड 11वीं बार खिताब जीता। इटली के शहर मिलान के सैन सिरो स्टेडियम में 28 मई को खेले गए बेहद रोमांचक मुकाबले में रियाल ने एटलेटिको मैड्रिड को पेनल्टी शूटआउट में 5-3 से शिकस्त दी। इस हार से एटलेटिको मैड्रिड का तीसरी बार खिताब जीतने का सपना भी टूट गया। रियाल मैड्रिड ने दो साल पहले 2014 में भी एटलेटिको को हराकर चैपियंस लीग जीती थी।

खिताबी मुकाबले में दोनों ही टीमों ने शानदार खेल का प्रदर्शन किया। निर्धारित समय तक दोनों ही टीमें 1-1 से बराबरी पर रहीं जिसके बाद मुकाबला अतिरिक्त समय में चला गया। यहां भी मुकाबला बराबरी पर रहने से विजयी टीम का फैसला पेनल्टी शूटआउट के जरिए हुआ। पेनल्टी शूटआउट में एक समय स्कोर 3-3 की बराबरी के साथ रोमांचक दौर में पहुंच गया था। रियाल के कप्तान सर्जियो रामोस ने टीम की तरफ से चौथा गोल दागकर बढ़त 4-3 कर दिया पर एटलेटिको के युवान फ्रैन ने मौका गंवा दिया।

 Top

भविष्य में भी स्वर्ण पदक जीतकर अन्य खिलाड़ियों के

लिए रोल मॉडल बनें - खेल मंत्री

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने 2 जून को भोपाल में मध्यप्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी की अन्तर्राष्ट्रीय स्वर्ण पदक विजेता सुश्री मनीषा कीर तथा प्रगति दुबे को उनकी उपलब्धि पर बधाई दी है। खेल मंत्री ने कहा कि स्वर्ण पदक जीतकर इन लाड़ली लक्ष्मियों ने प्रदेश को गौरवान्वित किया है। श्रीमती सिंधिया ने कहा कि यह अभी शुरुआत है भविष्य में इसी तरह पदक जीतकर अन्य खिलाड़ियों के लिए रोल मॉडल बनना है। खेल मंत्री ने कहा कि खिलाड़ियों को हरसंभव खेल सुविधाएँ उपलब्ध करवाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है।

मध्यप्रदेश शूटिंग अकादमी की शूटर सुश्री मनीषा कीर और प्रगति दुबे ने फिनलैण्ड के ओरिमेंटला में आयोजित 8वें इंटरनेशनल शॉटगन कप के टीम ट्रेप इवेंट में स्वर्ण पदक जीता है।

 Top

सनराइजर्स हैदराबाद ने जीता खिताब

सनराइजर्स हैदराबाद ने 29 मई को बेंगलुरु को खेले गए रोमांचक फाइनल मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु को उसी के घर में 8 रन से हराकर आईपीएल-9 का खिताब जीता। हैदराबाद की टीम पहली बार आईपीएल चैंपियन बनीं।

बेंगलुरु को तीसरी बार फाइनल में हार का मुंह देखना पड़ा है। बेंगलुरु को मीडियम पेसर शेन वाटसन के आखिरी ओवर का खामियाजा भुगतना पड़ा, जिसमें उन्होंने 24 रन लुटाए। हैदराबाद के बल्लेबाज बेन कटिंग ने वाटसन के इस ओवर में तीन छक्के और एक चौका जड़ा था। टॉस जीतकर सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान डेविड वार्नर ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया जो सही साबित हुआ। वार्नर के अर्धशतक से हैदराबाद ने 7 विकेट पर 208 रन का विशाल स्कोर बनाया। जवाब में बेंगलुरु की टीम ने 7 विकेट पर 200 रन बनाए।

बेंगलुरु को ओपनर क्रिस गेल और कप्तान विराट कोहली के अर्धशतक भी जीत नहीं दिला सके। 209 रन के विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 63 गेंदों में 114 रन की साझेदारी की। गेल ने 38 गेंदों में चार चौकों और आठ छक्कों के साथ 76 रन की बेहतरीन पारी खेली। मीडियम पेसर बेन कटिंग ने उनकी पारी का अंत किया।

कप्तान विराट कोहली ने 35 गेंदों में पांच चौकों और दो छक्कों के साथ 54 रन बनाए। हालांकि वह टूर्नामेंट में 1000 रन बनाने के रिकॉर्ड से चूक गए। उन्होंने टूर्नामेंट में कुल 973 रन बनाए। बेंगलुरु को एबी डिविलियर्स (05), लोकेश राहुल (11) और शेन वाटसन (11) के सस्ते में आउट होने का खामियाजा भुगतना पड़ा।

 Top

 भारतीय टीम के कोच पद को भरने की कवायद तेज

आईपीएल खत्म और टी-20 का खुमार भी। अब जरा गंभीर क्रिकेट की तैयारी कर लीजिए। बीसीसीआई को अनुराग ठाकुर के रूप में नए अध्यक्ष मिल चुके हैं। मगर एक सवाल अभी बाकी है। टीम इंडिया का स्थायी कोच कौन होगा?

जुलाई 2014 में डंकन फ्लेचर के जाने के बाद से यह पद खाली पड़ा है। बीसीसीआई ने 10 जून तक इच्छुक उम्मीदवारों के आवेदन मांगे हैं। पूरी उम्मीद है कि जुलाई में होने वाले वेस्टइंडीज के दौरे तक स्थायी कोच मिल जाएगा। जून में होने वाले जिम्बाब्वे दौर के लिए संजय बांगर को मुख्य कोच बनाया गया है। जाहिर है यह अस्थायी व्यवस्था है। पिछले एक साल से खाली पड़े इस अहम पद के लिए योग्य उम्मीदवार की दौड़ में कई नाम सामने आ रहे हैं। उन पांच नामों का आकलन जो इस दौड़ में सबसे आगे हैं।

1. रवि शास्त्री, दावेदारी क्यों?

टीम निदेशक रूप में टीम इंडिया से जुड़े और भारत ने क्रिकेट में नए कीर्तिमान रच डाले। रवि शास्त्री ने हाल में सकारात्मक संकेत भी दिए थे। उन्होंने मीडिया में कहा था कि अगर बीसीसीआई उनके प्रदर्शन से खुश है तो वह जिम्मेदारी लेने को तैयार हैं।

उपलब्धि क्या?

शास्त्री के निदेशक रहते भारत ने 22 साल में पहली बार श्रीलंका में टेस्ट सीरीज जीती

3-0 से ऑस्ट्रेलिया में टी-20 सीरीज जीतकर टीम इंडिया ने इतिहास रच दिया।

10 साल में पहली बार दक्षिण अफ्रीका से भारत में टेस्ट सीरीज जीती।

2. डेनियल विटोरी, दावेदारी क्यों?

न्यूजीलैंड के पूर्व स्पिनर आईपीएल के मौजूदा सीजन में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के कोच हैं। ऐसी खबरे हैं कि खुद विराट कोहली इनका नाम बोर्ड को सुझाया हैं। क्रिकेट जगत के सबसे 'सभ्य पुरुषों' में शुमार।

उपलब्धि क्या?

आईपीएल 2016 में विराट और विटोरी की जुगलबंदी के कारण बेंगलुरु फाइनल में पहुंची। टेस्ट और वनडे में 650 से ज्यादा विकेट लेने वाले न्यूजीलैंड के पहले स्पिनर।

3. राहुल द्रविड़, दावेदारी क्यों?

वर्तमान में सबसे बेहतरीन रणनीतिकार कोच में से एक। अंडर-19 और भारत एक टीम के कोच हैं। इसलिए अनुभव की भी कमी नहीं। तकनीक के मामले में बेहद दक्ष खिलाड़ी हैं।

उपलब्धियाँ

द्रविड़ की कोचिंग में अंडर-19 टीम वर्ल्ड कप-2015 के फाइनल में पहुंचीं।

तीन साल से फिसड्डी दिल्ली डेयर डेविल्स का प्रदर्शन सुधारा।

राजस्थान रॉयल्स के कोच रहते हुए टीम को प्लेऑफ तक ले गए।

4. शेन वॉर्न, दावेदारी क्यों?

ऑस्ट्रेलिया का यह महान लेग स्पिनर आईपीएल में अपनी काबिलियत साबित कर चुका है। उन्होंने खुद भारतीय टीम की कोचिंग करने की इच्छा जताई थी।

उपलब्धि क्या?

राजस्थान रॉयल्स के कोच और खिलाड़ी के रूप में 2008 में फाइनल जिता चुके हैं, ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड के विशेष आग्रह पर स्पिन गेंदबाजों को कोचिंग दे चुके हैं।

टेस्ट क्रिकेट इतिहास में मुरलीधरन के बाद सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज।

5. माइकल हसी, दावेदारी क्यों?

मिस्टर क्रिकेट माइकल हसी ने दावा किया था कि वीवीएस लक्ष्मण ने उन्हें कोच बनने का प्रस्ताव दिया था। हालांकि कोचिंग का अनुभव नहीं होने से इस पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज का दावा थोड़ा बाकी चार से थोड़ा कमजोर हुआ है।

ये भी संभावित

एंडी फ्लावर (जिम्बाब्वे)

स्टीफन फ्लेमिंग (न्यूजीलैंड)

जेसन गिलेस्पी (ऑस्ट्रेलिया)

जस्टिन लैंगर (ऑस्ट्रेलिया)

संजय बांगड़ (भारत)

Top

 
 
     
     

 

Copyright 2009, Rojgar Aur Nirman, All Rights Reserved   वेबसाइट : आकल्पन, संधारण एवं अद्यतन 'वेबसेल' मध्यप्रदेश माध्यम द्वारा

>> सम्पर्क

>>सूचना

>>सदस्यता